Saturday, 21 September, 2019
dabang dunia

मनोरंजन

जयकिशन पुण्यतिथि : शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

Posted at: Sep 11 2019 3:20PM
thumb

मुंबई। भारतीय सिनेमा जगत में सर्वाधिक कामयाब संगीतकार जोड़ी शंकर -जयकिशन ने अपने सुरो के जादू से श्रोताओं को कई दर्शकों तक मंत्रमुग्ध किया और उनकी जोड़ी एक मिसाल के रूप में ली जाती थी लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब दोनो के बीच अनबन हो गयी थी। शंकर और जयकिशन ने एक दूसरे से वादा किया था कि वह कभी किसी को नहीं बतायेगे कि धुन किसने बनायी है लेकिन एक बार जयकिशन इस वादे को भूल गये और मशहूर सिने पत्रिका फिल्मफेयर के लेख में बता दिया कि फिल्म संगम के गीत ये मेरा प्रेम पत्र पढ़कर कि तुम नाराज न होना.. की धुन उन्होंने बनाई थी । इस बात से शंकर काफी नाराज भी हुये।
 
बाद में पार्श्वगायक मोहम्मद रफी के प्रयास से शंकर और जयकिशन के बीच हुये मतभेद को कुछ हद तक कम किया जा सका। शंकर सिंह रघुवंशी का जन्म 15 अक्तूबर 1922 को पंजाब में हुआ था। बचपन के दिनों से ही शंकर संगीतकार बनना चाहते थे और उनकी रूचि तबला बजाने में थी। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बाबा नासिर खानसाहब से ली थी। इसके साथ ही उन्होंने हुस्र लाल भगत राम से भी संगीत की शिक्षा ली थी।अपने शुरूआती दौर मे शंकर ने सत्यनारायण और हेमावती द्वारा संचालित एक थियेटर ग्रुप में काम किया। इसके साथ ही वह पृथ्वी थियेटर के सदस्य भी बन गये जहां वह तबला बजाने का काम किया करते थे। इसके साथ ही पृथ्वी थियेटर के नाटकों मे वह छोटे मोटे रोल भी किया करते थे।