Sunday, 20 October, 2019
dabang dunia

समाचार

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मोदी को दिया कोयला परियोजना के उद्घाटन का न्योता

Posted at: Sep 19 2019 1:22AM
thumb

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलकर राज्य का नाम बदलने और विकास कार्यों के बारे में विचार विमर्श किया लेकिन राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर एवं अन्य राजनीतिक मसलों पर कोई बातचीत नही की। मोदी सरकार के खिलाफ लगातार मुखर रहनेवाली मुखर्जी की इस मुलाकात को राजनीतिक गलियारे में  महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि तृणमूल कांग्रेस के कई नेता शारदा घोटाले में फंसे है और पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार इस घोटाले को दबाने के मामले में केन्द्रीय जांच ब्यूरो जांच का सामना कर रहे है और वह फरार हैं। ममता ने मोदी से मुलाकात के बाद पत्रकारों से कहा कि उनकी मुलाकात अच्छी और बढ़िया रही तथा केवल विकास कार्यों के बारे में ही बात हुई। राजनीतिक मसलों पर उनसे कोई बातचीत नही हुई। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने यह भी कहा कि राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के बारे में कोई चर्चा नही हुई। यह मामला असम समझौते से जुड़ा है इसलिए उनका इससे लेना देना नहीं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने मोदी के साथ पश्चिम बंगाल का नाम बदलने के बारे में बातचीत हुई। राज्य का नाम बदलने का प्रस्ताव विधानसभा ने पारित कर दिया है प्रधानमंत्री ने इस मामले को देखने का  आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि उनसे कोयला ब्लाक के बारे में भी बातचीत हुई और केंद्र ने उन्हें एक बड़ा कोल ब्लाक आवंटित किया है जिसका उद्घाटन करने के लिए उन्होंने मोदी को आमंत्रित किया है और वह दशहरे के बाद बंगाल आयेंगे। उन्होंने बताया कि यह दुनिया को दूसरा सबसे बड़ा कोयला ब्लॉक है जो बीरभूम जिले में है इसका नाम देवचा पचमी है यह 1200 करोड़ की परियोजना है। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल की आर्थिक स्थिति काफी अच्छी है और सकल घरेलू उत्पाद का विकास दर 12.8 है जो देश में सबसे अधिक है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की कृषि की स्थिति भी काफी मजबूत है पिछले 5 साल से उनका बढ़िया प्रदर्शन रहा है और कृषि कर्मण पुरस्कार मिला । वर्ष 2017-18 में मक्का के उत्पादन के लिए भी यह पुरस्कार मिला। उन्होंने बताया कि वह गृह मंत्री से भी मिलना चाहती हैं और समय मिलते ही उनसे मिलेंगी।