Tuesday, 16 October, 2018
dabang dunia

अन्‍य

एयर इंडिया की पायलट अनुपमा ने बचाई 261 यात्रियों की जान

Posted at: Feb 13 2018 11:01AM
thumb

नई दिल्ली। विस्तारा और एयर इंडिया की फ्लाइट बुधवार (7 फरवरी) को एक बड़े हादसे से बच गई। जांच टीम को पता चला कि दोनों विमान में 261 यात्री सवार थे, लेकिन एयर इंडिया की विमान चालक अनुपमा कोहली ने बहुत कुशलता से स्थिति संभाली और सभी यात्रियों को सुरक्षित बचा लिया। दिलचस्प बात यह है कि दोनों ही फ्लाइट की कमान उस वक्त दो महिला पायलट के हाथ में थी।
जांच के दौरान यह बात सामने आई है कि एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स (एटीसी) की तरफ से कोआॅर्डिनेशन में कुछ दिक्कत हुई। कुछ सेकेंड के इस बेहद तनावपूर्ण माहौल को विमान की चालकों ने कुशलता से संभाल लिया। एयर इंडिया की विमान संख्या अ-319 मुंबई से भोपाल के और विस्तारा की विमान संख्या अ-320 दिल्ली से पुणे के लिए उड़ान भर रही थी।
चंद सेकंड के लिए दोनों विमान एक-दूसरे के काफी निकट आ गए थे, लेकिन कोई हादसा नहीं हुआ।  एक सूत्र ने हमारे सहयोगी अखबार को बताया, 'कुछ सेकंड की ही दूरी पर दोनों प्लेन उड़ रहे थे। विस्तारा अपनी निर्धारित ऊंचाई 29 हजार के लेवल पर और एयर इंडिया की फ्लाइट 27,100 फीट की ऊंचाई पर था। एटीसी और विस्तारा के कॉकपिट में कुछ उलझन की स्थिति बनी और उस वक्त विमान का संचालन महिला सह-पायलट के पास था।
20 साल का अनुभव है अनुपमा के पास
एयर इंडिया की पायलट अनुपमा कोहली के पास विमान उड़ाने का 20 साल से अधिक लंबा अनुभव है। कोहली ने देखा कि उनके विमान की दिशा में विस्तारा का विमान रहा है। कोहली ने अपने अनुभव का पूरा प्रयोग करते हुए स्थिति संभाल ली। सूत्र के अनुसार, 'विस्तारा विमान को अपनी तरफ बढ़ते देख उन्हें रेड सिग्नल मिला। विस्तारा की महिला पायलट ने एटीसी को संपर्क के दौरान कहा कि आपने मुझे इसी लेवल पर उड़ान भरने का निर्देश दिया है।
कोहली ने जब विस्तारा के विमान को इस तरफ आते देखा तो उन्होंने दाहिनी तरफ मुड़कर विमान के उड़ान के लिए जगह बना दी और अपने विमान को थोड़ा नीचे कर लिया। इस तरह दोनों विमान के यात्री सुरक्षित बच गए।'  पायलट कोहली के त्वरित निर्णय लेने की क्षमता और कुशलता से स्थिति संभालने के लिए एयर इंडिया ने काफी तारीफ की। विस्तारा एयरलाइंस की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। एयरलाइंस का कहना है कि पायलट का टॉइलट ब्रेक नियमानुसार ही था।