Tuesday, 28 January, 2020
dabang dunia

ज़रा हटके

महज नौ साल की उर्म में इस बच्चे ने पूरी की ग्रेजुएशन

Posted at: Nov 16 2019 12:07PM
thumb

नई दिल्ली। अल्बर्ट आइंस्टीन को मानव इतिहास का सबसे बुद्धिमानी व्यक्ति कहा जाता था। माना जाता है कि दुनिया में आइंस्टीन से ज्यादा तेज इंसान कोई नहीं है। अल्बर्ट आइंस्टीन बचपन में इतने बुद्धिमान नहीं थे। 4 साल की उम्र तक बोलना भी शुरू नही किया था। नीदरलैंड की राजधानी एम्स्टर्डम में रहने वाले नौ साल के बच्चे लॉरेंट सिमंस का दिमाग आइंस्टीन से भी तेज है। लेकिन आपको शायद यकीन नहीं हो रहा होगा लेकिन ये हकीकत है। हम बात कर रहे हैं नीदरलैंड की राजधानी एम्स्टर्डम में रहने वाले नौ साल के बच्चे लॉरेंट सिमंस की। इसका दिमाग आइंस्टीन से भी तेज है। नीदरलैंड की राजधानी एम्स्टर्डम का नौ वर्षीय प्रतिभाशाली बच्चा लॉरेंट सिमंस आगामी दिसंबर में सबसे कम उम्र में स्नातक डिग्री हासिल करेगा। लॉरेंट एंधोवेन यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक कर रहे हैं। लॉरेंट अगले माह मात्र नौ महीने में अपनी पढ़ाई पूरी कर स्नातक हो जाएंगे।
 
आइंस्टीन जैसे तेज दिमाग वाले लॉरेंट का आईक्यू स्तर 145 है। लॉरेंट को अभी से ही दुनिया की शीर्ष यूनिवर्सिटी परास्नातक की पढ़ाई के लिए बुला रही हैं। अंतरिक्ष यात्री या हार्ट सर्जन बनने का इरादा: आठ साल की उम्र में हाईस्कूल के कोर्स को 18 माह में पूरा करने वाले लॉरेंट को आशा है कि वह एक दिन अंतरिक्ष यात्री या हार्ट सर्जन बनेंगे। क्योंकि उनके दादा-दादी को हार्ट की समस्याएं हैं। लॉरेंट ने बताया कि वह आगे की पढ़ाई कैलिफोर्निया से करना चाहते हैं क्योंकि वहां का मौसम काफी अच्छा है। जबकि उनके पिता चाहते हैं कि वह यूके में अपनी पढ़ाई करे। बेल्जियम में जन्में लॉरेंट को प्रतिभाशाली बच्चा कहा जाता है और उसकी तुलना अल्बर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से होती है। इसके साथ ही वह चार भाषाओं को बोल सकता है। एलेक्जेंडर और लॉरेंट की मां 29 वर्षीय लीडिया ने बताया कि पहली बार उसके दादा-दादी और अध्यापकों ने उसकी क्षमताओं को पहचाना था। 
 
पांच साल की पढ़ाई मात्र 12 माह में पूरी की
लॉरेंट ने चार साल की उम्र में स्कूल जाना शुरू किया और अपनी पांच साल की पढ़ाई को मात्र 12 महीने में पूरा कर लिया। लॉरेंट के वर्तमान शिक्षक ने दावा किया उनके अपने इतने लंबे करियर में मिले सबसे बुद्धिमान छात्र की तुलना में यह तीन गुना अधिक होशियार है।