Thursday, 21 June, 2018
dabang dunia

अन्‍य

सरेआम भाजपा नेता की हत्या कर अपराधियों ने पुलिस को दी चुनौती

Posted at: Mar 12 2018 5:04PM
thumb

रांची। झारखंड की राजधानी में बेखौफ अपराधियों ने एक बार फिर सरेआम दिल दहला देने वाली घटना को अंजाम दिया। घटना नगड़ी क्षेत्र के पिस्का स्टेशन के पास रामलाल स्वीट्स के सामने की है । यहां लोहरदगा के भाजपा नेता पंकज गुप्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना पास ही में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है। जिसके आधार पर पुलिस अपराधियों की तलाश कर रही है।
लोहरदगा जिला भाजपा के कोषाध्यक्ष पंकज गुप्ता को सरेआम बदमाशों ने गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। घटना से गुस्साए स्थानीय ग्रामीणों ने पिस्का रेलवे फाटक के सामने रांची-गुमला रोड जाम कर दिया। करीब ढाई घंटे तक सड़क जाम कर पुलिस प्रशासन के खिलाफ खूब नारेबाजी की। थानेदार अजय कुमार सिंह को हटाने की मांग की। 
ग्रामीणों का कहना था कि क्षेत्र में बढ़ रही आपराधिक घटनाओं के लिए स्थानीय पुलिस जिम्मेदार है। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर एसएसपी कुलदीप द्विवेदी और ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग पहुंचे और लोगों को समझा-बुझाकर जाम हटवाया। ग्रामीण एसपी द्वारा शीघ्र अपराधियों की गिरफ्तारी के आश्वासन पर लोग माने। 
घटना के खुलासे के लिए एसएसपी कुलदीप द्विवेदी ने ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग के नेतृत्व में एसआइटी का गठन किया है। पुलिस मुख्यालय की ओर से सीआइडी, एफएसएल की टीम, एटीएस व लोहरदगा पुलिस को भी सहयोग के लिए लगाया गया है। इधर, रांची प्रक्षेत्र के प्रभारी डीआइजी साकेत कुमार सिंह ने हमलावरों के सुराग देने वाले को 50 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है।
बताया जा रहा है कि पंकज गुप्ता सुबह साढ़े आठ बजे राची से लोहरदगा चलने वाली ट्रेन से नगड़ी पहुंचे थे। ट्रेन से उतरकर वे होटल में नाश्ता के बाद चाय बनने का इंतजार कर रहे थे। उसी दौरान होटल के भीतर से दो युवक नाश्ता कर बाहर निकले। इनमें से एक युवक ने उनके सामने जाकर उनकी पहचान की। इसी दौरान दूसरे युवक ने पीछे से पिस्टल से उनके सिर में गोली मार दी। पंकज गुप्ता वहीं गिर गए। दूसरे अपराधी ने भी पंकज को तीन गोलियां मारी। एक गोली उनके सीने और एक हाथ में लगी। पंकज ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया। अपराधी बिना नंबर की मोटरसाइकिल से भाग निकले।
पंकज गुप्ता ने एक माह पूर्व ही नगड़ी में पिस्का स्टेशन के पास बस्ती में चार डिसमिल जमीन खरीदी थी। उसी जमीन में दो दिनों से वे चहारदीवारी के लिए नींव खुदवा रहे थे। रविवार को भी वे उसी प्लॉट में काम कराने पहुंचे थे। परिजनों के मुताबिक पंकज गुप्ता जमीन कारोबार से भी नहीं जुड़े थे। पंकज गुप्ता के पुत्र सत्या कुमार नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी कांके में जनसंपर्क अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं। घटना की सूचना मिलने पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गहरा दुख व्यक्त करते हुए एसएसपी को मामले का शीघ्र खुलासा करने और अपराधियों को पकड़ने का निर्देश दिया है।