Monday, 24 September, 2018
dabang dunia

क्रिकेट

कप्‍तान बनते ही अश्विन ने भरी हुंकार, कहा - इस बार पंजाब को बनाना है चैंपियन

Posted at: Mar 13 2018 5:03PM
thumb

नई दिल्ली। भारतीय आॅफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन पहली बार जब तमिलनाडु के कप्तान बने थे तो उनकी उम्र मात्र 20 साल थी और उन्होंने अपनी टीम को विजय हजारे चैंपियन बनाया था। आज 31 साल के अश्विन आईपीएल में पहली बार किग्‍स इलेवन पंजाब टीम की कप्तानी संभाल रहे हैं और उनका एकमात्र लक्ष्य अपनी टीम को चैंपियन बनाना है।
अश्विन ने अपनी टीम किंग्‍स इलेवन पंजाब के मंगलवार को यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में टीम के मेंटर और निदेशक क्रिकेट संचालन वीरेंद्र सहवाग की मौजूदगी में कहा - 2007 में जब मैंने तमिलनाडु की कप्तानी संभाली थी तो मैं मात्र 20 साल का था। मैंने अपनी टीम को तब विजय हजारे चैंपियन बनाया था। यहां मैं आईपीएल टीम का कप्तान हूं। मैंने कभी ट्वंटी-20 टीम की कप्तानी नहीं की है और मुझे पूरी उम्मीद है कि हम इस बार चैंपियन बनेंगे।
आठ साल तक चेन्नई सुपरंकिंग्‍स में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेलने वाले अश्विन ने अपनी नई जिम्मेवारी पर कहा - मैं बहुत सारे कप्तानों के साथ खेला हूं। वीरू पाजी और धोनी की कप्तानी में भी खेला हूं। मैं इन सभी कप्तानों के गुण लेकर आईपीएल में आगे बढूंगा।
आॅफ स्पिनर ने कहा - कप्तानी के साथ जिम्मेदारी भी आती है और जब जिम्मेदारी आती है तो आप दबाव से निपटना सीख जाते हैं।
हमारे पास कई अच्छे खिलाड़ी हैं और मेरी पूरी कोशिश रहेगी कि अगले दो-तीन साल में पंजाब को हम एक मजबूत टीम बना दें। चेन्नई के अश्विन से उत्तर भारत के प्रशंसकों को जोड़ने के सवाल पर अश्विन ने हंसते हुए कहा - मेरी पहली चैलेंजर सीरीज में मेरे कप्तान उत्तर के युवराज सिंह थे। मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा। मैं वीरू की कप्तानी में भी खेला। इन दोनों जबरदस्त खिलाड़ि‍यों के साथ जो कुछ देखने को मिला उसी की बदौलत मैं आज यहां हूं।
आईपीएल को भारत की सीमित ओवरों की टीम में वापसी की तरह देखे जाने के बारे में अश्विन ने स्पष्ट शब्दों में कहा" मैं आईपीएल को सीमित ओवरों में वापसी के तौर पर नहीं देख रहा हूं। मेरा लक्ष्य सिर्फ अच्छा प्रदर्शन करना है। अपने खिलाड़यिों से अच्छा प्रदर्शन करवाना है और टीम को चैंपियन बनाना है