Sunday, 20 October, 2019
dabang dunia

प्रदेश

सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को बेच रही है सरकार : कांग्रेस

Posted at: Oct 10 2019 1:59AM
thumb

नई दिल्ली। कांग्रेस ने सरकार पर आर्थिक मंदी को लेकर बात करने से बचने का आरोप लगाते हुए कहा है कि वह इससे निपटने के उपाय पर नहीं कर रही है और उल्टे लाभ में चलने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को बेचने की तैयारी में जुटी है। कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने बुधवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार निजी क्षेत्र से निवेश को जुटाने में असफल हो रही है और अब लाभ देने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की नवरत्न कंपनियों के विनिवेश की तैयारी कर रही है। खेड़ा ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी बीपीसीएल लाभ देने वाली कंपनी है और 31 मार्च तक इसका लाभ 31 फीसदी तक बढा है लेकिन सरकार की इस मुनाफा वाली कंपनी को 68 हजार करोड़ रुपए में बेचने की तैयारी है।
सरकार की इसको बेचने की तैयारी पहले से ही थी इसलिए उसने 2016 में तीन अधिनियमों को संसद से निरस्त करवा दिया और इस कंपनी को बेचने का रास्ता साफ किया था। उन्होंने कहा कि इसी तरह से कंटेनर कारपोरेशन ऑफ इंडिया भी लाभ देने वाली कंपनी है लेकिन इसे भी कमजोर किया जा रहा है ताकि इसके विनिवेश को आसान बनाया जा सके। इसी तरह से बीएसएनएल तथा एमटीएनएल जैसी कंपनियां पहले ही बंदी की कगार पर पहुंच चुकी हैं।
सार्वजनिक क्षेत्र की इन कंपनियों को बंद कर सरकार लाखों लोगों को बेरोजगार करने की तैयारी कर रही हैं। उन्होंने कहा कि आर्थिक जानकारों के अनुसार नोटबंदी के बाद देश की विकास दर 2 से 3 प्रतिशत घटी है। सरकार जीडीपी के पांच प्रतिशत तक रहने का अनुमान लगा रही है लेकिन अर्थशास्त्री मानते हैं कि यह इससे भी कम है। बजट में सरकार का आकलन 7.44 लाख करोड़ रुपए था जो घटकर अब 6.44 लाख करोड रुपए रह गया है। निजी निवेश 16 साल में सबसे कम हुआ है।  सरकार का कोई भी प्रयास मंदी से बाहर निकलने का नहीं हो रहा है।