Thursday, 18 August, 2022
dabang dunia

प्रदेश

SP में शामिल हुए स्‍वामी प्रसाद मौर्य, अखिलेश की प्रेस कॉन्फ्रेंस में

Posted at: Jan 14 2022 2:50PM
thumb

लखनऊ। योगी कैबिनेट के बागी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और उनके समर्थक विधायकों ने समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली है। इस मौके पर समाजवादी पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेस आयोजित की, जिसमें कोरोना नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई गईं बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ 6 अन्य विधायकों ने सपा की सदस्यता ग्रहण की. अपना दल (एस) के विधायक अमर चौधरी और बीजेपी के विधायक विनय शाक्य, रोशनलाल वर्मा, मुकेश वर्मा, भगवती सागर और बृजेश प्रजापति आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए इस मौके पर सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहा कि उधर लगातार विकेट गिर रहे हैं। वैसे तो हमारे बाबा मुख्यमंत्री क्रिकेट खेलना नहीं जानते, अगर वो जानते भी होते तो उनके हाथ से कैच छूट जाता है। स्वामी प्रसाद मौर्य जिस तरफ चलते हैं।

उसी तरफ सरकार बन जाती है अखिलेश यादव ने कहा कि ये कहते हैं 80 और 20 की लड़ाई है। 80 फीसदी लोग पहले से ही सपा के साथ हैं। और आज 20 फीसदी लोग भी बीजेपी के खिलाफ हो गए हैं। शायद सरकार को पहले से ही पता था कि स्वामी प्रसाद मौर्य और बाकी लोग हमारी तरफ आने वाले हैं। इसीलिए मुख्यमंत्री पहले ही गोरखपुर चले गए. उनका किसी ने टिकट भी करा दिया है. लेकिन वो सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहा कि हमारा गठबंधन 400 सीटें भी जीत सकता है। जनता बीजेपी सफाया करने के लिए तैयार बैठी है। बीजेपी ठोको राज चला रही है. स्वामी प्रसाद मौर्य जैसे ही हमारी पार्टी में आए

उनके खिलाफ पता नहीं किस जमाने का वारंट निकाल दिया समाजवादी पार्टी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में हजारों लोगों की भीड़ जुटाई गई है। अब सवाल उठ रहे हैं कि ये रैली है या वर्चुअल रैली. यहां कोविड नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। चुनाव आयोग ने 15 जनवरी तक किसी भी तरह की रैली पर रोक लगा रखी थी। सपा ने आज शक्ति प्रदर्शन करने की कोशिश की इस बीच आगरा से बड़ी खबर है। कि बीएसपी के कद्दावर ब्राह्मण नेता रामवीर उपाध्याय ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। वो सपा में शामिल हो सकते हैं। रामवीर उपाध्याय ने कहा कि बीएसपी काशीराम के सिद्धांतों से भटक गई है। जान लें कि रामवीर उपाध्याय बीएसपी सरकार में ऊर्जा मंत्री थे जान लें कि आजाद समाज पार्टी के चीफ चंद्रशेखर आजाद आज अखिलेश यादव से मिलने के लिए लखनऊ में समाजवादी पार्टी के दफ्तर पहुंचे. माना जा रहा है। कि समाजवादी पार्टी और आजाद समाज पार्टी यूपी विधान सभा चुनाव में गठबंधन कर सकती है।