Friday, 24 May, 2024
dabang dunia

देश

वोट बैंक की खातिर आस्था को खारिज कर रहे हैं इंडी गठबंधन वाले: PM मोदी

Posted at: Apr 19 2024 8:14PM
thumb

अमरोहा। समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस पर निशाना साधते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हज़ारों वर्षों से चली आ रही आस्था और भक्ति को इंडी गठबंधन वाले सिर्फ वोट बैंक के लिए ख़ारिज कर रहे हैं। दिल्ली-लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग से सटे मैदान पर चुनावी रैली को संबोधित करते हुये श्री मोदी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस, सपा और बसपा सरकारों में यहां के किसानों की समस्याओं की अनदेखी की जाती थी लेकिन भाजपा सरकार किसानों पर पूरा ध्यान दे रही है। अमेरिका में जहां यूरिया प्रति बोरी तीन हज़ार रुपये में मिलती है वहीं हम भारत में किसानों को 300 रुपये में उपलब्ध करा रहे हैं।
 
उन्होने कहा “ हमें देश और उत्तर प्रदेश को बहुत आगे लेकर जाना है लेकिन इंडी गठबंधन की सारी शक्ति गांव, देहात को पीछे ले जाने में लगती है।इसी सोच के चलते अमरोहा और पश्चिम उत्तर प्रदेश जैसे क्षेत्रों को सबसे बड़ा खामियाज़ा भुगतान पड़ा है।” मोदी ने कहा “ इंडी गठबंधन वाले सनातन से घृणा करते हैं। मैने श्रीकृष्ण की वास्तविक द्वारिका जो कि समुद्र में स्थित है, वहां पूजा की लेकिन कांग्रेस के शहजादे कहते हैं कि समुद्र में पूजा करने योग्य कुछ है ही नहीं। हमारी हज़ारों वर्षों से चली आ रही आस्था और भक्ति को ये लोग सिर्फ वोटबैंक के लिए ख़ारिज कर रहे हैं।”
 
प्रधानमंत्री ने कहा “ उत्तर प्रदेश में एक बार फिर दो शहजादों (राहुल गांधी और अखिलेश यादव) की जोड़ी की फिल्म की शूटिंग चल रही है। हालांकि इनका पहले भी रिजेक्शन हो चुका है।हर बार ये लोग परिवारवाद, भ्रष्टाचार, और तुष्टिकरण की टोकरी सिर पर उठाकर उत्तर प्रदेश की जनता से वोट मांगने निकल पड़ते हैं। ये भारत की आस्था पर हमला करने का यह कोई मौका नहीं छोड़ते हैं। दोनों पार्टियां (सपा - कांग्रेस) रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा का निमंत्रण ठुकरा दिया था। आज़ जब पूरा देश राममय है,तब अपने आप को यदुवंशी कहने वाले समाजवादी पार्टी के लोग रामभक्ति करने वालों को सार्वजनिक रूप से पाखंडी कहते हैं।” उन्होने कहा कि उनकी सरकार में गांव गांव कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने का काम किया जा रहा है। गठबंधन की पिछली सरकारों की वज़ह से खेत खलिहानों की धरती पश्चिम उत्तर प्रदेश के दिल्ली - एनसीआर के नज़दीक होने के बावजूद समुचित विकास नहीं हो पाया है।