Saturday, 25 September, 2021
dabang dunia

खेल

पंत, पांड्या, जडेजा और अश्विन को एक साथ खेलते देखना चाहता हूं'' : चैपल

Posted at: Sep 12 2021 6:26PM
thumb

मेलबोर्न। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान इयान चैपल ने कहा है कि इस बात में कोई संदेह नहीं कि भारत एक मजÞबूत टेस्ट टीम है। लेकिन अच्छी टीमें हमेशा सुधार की सम्भावना ढूंढती रहती हैं। 
 
चैपल ने क्रिकइंफो पर अपने कालम में कहा कि भारतीय टीम ने पहले ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतकर और फिर इंग्लैंड को 2-1 से पछाड़कर  लगातार ऐसा साबित किया है। घर पर तो वे पहले से ही अपराजेय हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि टीम में सुधार की संभावना ही नहीं है। अच्छी टीमें हमेशा सुधार की संभावना ढूंढती रहती हैं, तभी वे शीर्ष पर होती हैं। 1920 के दशक में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान हर्बी कॉंलिस ने कहा था कि टीम चयन का आधार टीम संतुलन होना चाहिए।
 
उन्होंने कहा कि भारत का सही टीम संतुलन वही है, जिसमें ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन अनिवार्य रूप से शामिल हों। वह सभी परिस्थितियों के गेंदबाज हैं, जैसा कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में साबित किया था। इसलिए भारतीय टीम मैनेजमेंट को उन्हें अंतिम एकादश में फÞटि करने की जरूरत है।
 
चैपल ने कहा कि दाएं और बाएं हाथ के बल्लेबाजÞ मध्य क्रम में एक साथ खेलें, इसलिए ओवल टेस्ट की दोनों पारियों में रवींद्र जडेजा को नंबर पांच पर भेजा गया। अगर जडेजा इस क्रम पर सफल हो जाते हैं, तो भारतीय टीम को तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर की पहेली सुलझानी होगी। अगर हार्दिक पांड्या पूरी तरह फिट होते हैं, तो वह इस स्थान के सबसे प्रमुख दावेदार होंगे, लेकिन हाल के दिनों में शार्दुल ठाकुर भी एक विकल्प बन कर उभरे हैं। यह भारतीय टीम की गहराई को दिखाता है।
 
उन्होंने लिखा कि निचले मध्य क्रम में जडजा, पंत, पांड्या  और अश्विन की उपस्थिति भारतीय बल्लेबाजी को मजबूती और गहराई प्रदान करेगी। इसके बाद तीन तेज गेंदबाज खिलाने का विकल्प हमेशा खुला रहेगा, जो स्पिनर्स और पांड्या के साथ किसी भी पिच और परिस्थितियों में 20 विकेट लेने का माद्दा रखते हैं।
 
चैपल ने कहा कि जडेजा-पंत-पांड्या-अश्विन की चौकड़ी की सबसे अच्छी बात है कि ये बल्लेबाजी में विविधता प्रदान करेंगे। पंत इस चौकड़ी के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं, वह नंबर पांच पर आ सकते हैं, ख़ासकर तब जब भारत पहले बल्लेबाजी करे। लेकिन अगर भारत दूसरे नंबर पर बल्लेबाजी करता है और पंत विकेटकीपिंग के कारण थके होते हैं, तो जडेजा या पांड्या  में से कोई नंबर पांच पर आ सकता है। पंत, जडेजा और पांड्या  की सबसे ख़ास बात यह है कि ये तीनों आक्रामक खिलाड़ी हैं और मैच के किसी भी मोड़ पर रन गति बढ़ाने की क्षमता रखते हैं।
 
अगर भारत ने अच्छी शुरूआत की हो, तो वे इसे बड़ी पारी में बदल सकते हैं। वहीं लक्ष्य का पीछा करने की स्थिति में भी वे उपयोगी हैं।
ऐसी स्थिति में भारत को अंजिक्य रहाणे को ड्रॉप करना होगा। इसका एकमात्र नुकसान यह होगा कि भारत एक अच्छा स्लिप फिल्डर खो देगा। चैपल ने कहा कि टेस्ट मैचों में भी रोहित शर्मा उपकप्तानी की जिम्‍मेदारी निभाने के लिए तैयार दिख रहे हैं। अगर भारतीय टीम अपने मध्यक्रम में यह बदलाव कर अश्विन को प्राथमिकता देती है तो यह और भी घातक टीम हो जाएगी। अन्य टीमों के लिए यह बहुत ख़तरनाक बात है कि सबसे सफल टीम होने के बावजूद भारतीय टीम में अभी भी सुधार की गुंजाइश है।