Thursday, 09 December, 2021
dabang dunia

देश

राहुल और प्रियंका के प्रति रहूंगा वफादार, पंजाब में भी महिलाओं को मिले 50% कोटा

Posted at: Nov 22 2021 3:57PM
thumb

नई दिल्‍ली। पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को लुधियाना में दावा किया है कि वह मरते दम तक राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के प्रति वफादार रहेंगे। साथ ही साथ उन्होंने पंजाब विधानसभा चुनाव में महिलाओं के लिए 50 फीसदी आरक्षण की वकालत की है। नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, ‘3 महीने में जो काम हुआ वह पिछले 4।5 साल में नहीं हुआ था। मैं मरते दम तक राहुल, प्रियंका गांधी के प्रति वफादार रहूंगा। यूपी में प्रियंका गांधी ने 2022 के चुनावों में महिलाओं के लिए 40% आरक्षण की घोषणा की। मैं कहूंगा, हमारे पंजाब मॉडल में 50% कोटा दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हम किसानों को 8000 करोड़ रुपए की सब्सिडी दे रहे हैं। बताओ कौन सा राज्य इतनी सब्सिडी दे रहा है। अरविंद केजरीवाल से पूछें कि वह किसानों को कौन सी सब्सिडी दे रहे हैं। लुधियाना में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के दौरान कांग्रेस पार्टी के एकजुट चेहरे को सामने रखते हुए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और नवजोत सिंह सिद्धू दोनों एक साथ आए। इस दौरान सिद्धू ने कहा, ‘औद्योगिक क्रांति रूस और चीन में आई लेकिन पंजाब के विकास के लिए माफिया राज को खत्म करना होगा।’ उन्होंने कहा कि पंजाब विधानसभा चुनाव नैतिक सिद्धांतों पर लड़ा जाएगा और ईमानदारों की जीत होगी। वहीं, सीएम चरणजीत चन्नी ने कहा, ‘महिलाओं को आरक्षण की जरूरत नहीं है। उन्हें उनके उचित हिस्से की जरूरत है जो कांग्रेस द्वारा हर संभव तरीके से दिया जाएगा।’
 
बीते दिन सिद्धू ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि तीन ‘‘काले’’ कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा के बावजूद केंद्र सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी, गरीबों के लिए खाद्य सुरक्षा, सरकारी खरीदारी और सार्वजनिक वितरण प्रणाली को समाप्त करने की ‘‘कुटिल’’ साजिश जारी रखेगी। सिद्धू ने कहा कि फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने वाला कानून बनाने को लेकर सरकार ने अभी तक कुछ नहीं कहा है।
 
PM मेादी ने शुक्रवार को घोषणा की थी कि सरकार ने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने का फैसला किया है। सिद्धू ने ट्वीट किया, ‘आज, हम केंद्र के तीन काले कानूनों के खिलाफ हमारी जीत की खुशी मना रहे हैं… हमारा वास्तविक काम अब शुरू हुआ है। केंद्र सरकार की कृषि कानूनों के बिना एमएसपी को समाप्त करने, गरीबों के लिए खाद्य सुरक्षा समाप्त करने, सरकारी खरीदारी समाप्त करने और पीडीएस को समाप्त करने की कुटिल साजिश जारी रहेगी। यह योजना अब गोपनीय होगी और अधिक खतरनाक होगी।’