Thursday, 09 February, 2023
dabang dunia

प्रदेश

भगवान राम की तपोभूमि चित्रकूट में मिली एक और गुफा, पुरातत्व विभाग की टीम करेगी जांच

Posted at: Jan 24 2023 12:22PM
thumb

भगवान राम की तपोभूमि चित्रकूट (Chitrakoot ) में गुप्त गोदावरी (Gupta Godavari) की पहाड़ी पर एक और गुफा मिली है। प्रशासन की टीम गुफा की जांच में जुटी है। एसडीएम ने बताया कि गुफा के बारे में पुरातत्व विभाग की टीम को सूचित किया जाएगा। बताया जा रहा है कि गुफा की लंबाई करीब 25 फीट व चौडाई डेढ़ मीटर के करीब है। पहले भी इस क्षेत्र में दो गुफाएं मिल चुकी हैं। मौके पर पहुंचे एसडीएम पीएस त्रिपाठी गुफा में करीब 20 फीट तक अंदर तक गए। यह गुफा गुप्त गोदावरी पहाड़ी चढ़ाई की शुरुआत जहां से होती है, वहीं पास में है। बताया जा रहा है गुफा के आगे का मुंह काफी पतला है। अधिकारियों ने बताया कि गुप्त गोदावरी से 200 मीटर की दूरी पर वन विभाग का पार्क है। उसके थोड़ी दूरी पर ये गुफा है।अधिकारियों के अनुसार, पुरातत्व विभाग की टीम ही गुफा के बारे में सही से पता लगा पाएगी। यह इलाका धार्मिक रहा है। पहले भी इस क्षेत्र में दो गुफाएं मिल चुकी हैं। बता दें कि हिंदू धर्म ग्रंथों में चित्रकूट का कई बार उल्लेख नजर आता है। 

हिंदू धर्म ग्रंथों में इस बात का जिक्र है कि जब राजा दशरथ ने भगवान राम को वनवास दिया था तो राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ यहां आए थे। इस दौरान भगवान राम ने काफी समय यहां पर गुजारा। वहीं, राम के छोटे भाई भरत भी यहां आए थे। ऐसी मान्यता है कि भगवान राम को वापस अयोध्या ले जाने के लिए भरत चित्रकुट सपरिवार आए थे। इस दौरान तीनों माताएं कौशल्या, कैकेयी और सुमित्रा भी चित्रकुट आई थीं। लेकिन, भरत के लाख मनाने पर भी राम अयोध्या वापस लौटने को तैयार नहीं हुए, इसके बाद भरत चित्रकुट से राम की चरण पादुका लेकर वापस लौट गए। हिंदू धर्म ग्रंथों में इस प्रसंग का जिक्र है। बता दें कि 5 साल पहले गुप्त गोदवारी से थरपहाड़ गांव जाने के लिए पहाड़ी पर खोदाई के दौरान ऐसी ही एक गुफा मिली थी ।बाद में उस गुफा को प्रशासन की ओर से बंद करा दिया गया था। यहां के लोग कहते हैं कि यहां की गुफाओं में भगवान राम ने पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ काफी वक्त बिताया। चित्रकूट मध्यप्रदेश का एक शहर है